Types of SEO ( search engine optimization ) in hindi

 दोस्तों आजकल अब वह जमाना तो रहा नहीं कि आपके पास कोई अच्छी चीज है और आप उसे लोगों को दिखाना चाहते हैं तो एक किराए वाला ऑटो लेकर पूरे शहर में उसका प्रचार करवा ले। लेकिन इससे भी कुछ खास फर्क पड़ने वाला नहीं है। यहां पर दोस्तों आज के Date में हम सभी internet पर search करते हैं और हमें जो चाहिए होता है वह मिल जाता है। लेकिन यहां पर एक दिक्कत निकल कर आती है कि आप search तो करते हैं गूगल, यूट्यूब और बहुत सारी ऐसी website पर जिस पर search engine है।

 result आने आप बस गूगल का first page देखते हैं या फिर यूट्यूब का शुरुआती कुछ video क्योंकि next करके दो या तीन नंबर पर जाना किसी को पसंद नहीं है। यहां पर जितने भी creater है यानी कि जिसके पास website या youtube चैनल है वो search engine के first page पर आना चाहते है ताकि उनको hits मिले और लोग उनके वेबसाइट या यूट्यूब वीडियो को देख सकें।


 लेकिन दिक्कत यह है कि यहां competition बहुत ज्यादा है क्योंकि आप जो भी search करते हैं उसके रिजल्ट millions में आते हैं। बात आती आखिर हम शुरुआत के top 10 या 20 में कैसे पहुंचे, तो यहां पर हमको लगानी पड़ती है कुछ techniques जिसे हम बोलते हैं SEO यानी कि "Search engine optimization".

 दोस्तों गूगल चाहता है कि वह उसी वेबसाइट या वीडियो को first Page पर show कराए जो उसके Rule and Regulation के हिसाब से optimize किए गए हैं। यदि यहां पर हम अपने कंटेंट को सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन यानी कि SEO के हिसाब से optimize करते हैं तो वह उसके first Page या second Page पर rank कर सकता है।

 SEO में गूगल देखता है कि आप का title क्या है, आपके website में किस वेबसाइट का link है या नहीं? क्या आपकी वेबसाइट का Link किसी दुुुसरे वेबसाइट ने अपने वेबसाइट में add किया है या नही? आपके द्वारा अपलोड किया गया इमेज HD quality का है या नहीं? क्या आप की इमेज में title text इनपुट किया गया है या नहीं? मतलब बहुत सारी चीजें होती हैं लेकिन यदि यहां पर आप सभी चीजें लेकर चलते हैं और यदि सारे steps पूरी करें तो यह नामुमकिन है।

गूगल भी समझता है कि कोई भी इंसान पूरी तरीके से ऐसा नहीं कर सकता और ना ही google ने स्पष्ट रूप से SEO के बारे में कुछ भी बताया है क्योंकि अगर गूगल SEO के बारे में सब कुछ स्पष्ट रूप से बता दे तो लोग उसे भी Hack करने की कोशिश करने लगेंगे। इसीलिए गूगल में कुछ tips दिए है जिससे आप कुछ idea ले सकते हैं।

जैसे कि यदि मान लीजिए कि हमने इस blog को लिखा है तो इसमें हमने SEO technique, what is SEO, SEO in Hindi, black hat SEO, White hat SEO, Gray hat SEO जैसे tag का इस्तेमाल किया है यह वह tags है जो गूगल को बताएंगे कि आखिर यह post किसके बारे में लिखा गया है क्योंकि यदि कोई इंसान इन सभी word को सर्च करता है तो वह उस से related options में हमारे इस blog के post को दिखा सकता है।


अभी तक हमने SEO के introduction के बारे में पढ़ा है लेकिन अब हम आपको SEO के type के बारे में बताएंगे कि SEO को कितने भागों में DEVIDE किया गया है। अगर हम इसके parts की बात करें तो SEO को 3 भाग में devide किया गया है।

SEO Partitions


  1. White Hat SEO
  2. Black Hat SEO
  3. Gray Hat SEO

यदि हम white hat seo के बारे में बात करे तो यह निम्नलिखित रूप से कार्य करता है-

White hat seo
  1. White Hat SEO is considered as ethical and organic SEO.
  2. In White Hat SEO , we are follow all guideline off search engine.
  3. White Hat SEO is slow process but it is provides Long lasting growth in ranking.
  4. You should use White Hat SEO techniques.
White Hat SEO को ethical या organic SEO के नाम से भी जाना जाता है। White Hat SEO में हम सर्च इंजन के Guideline के accourding काम करते हैं। पर यह एक बहुत ही slow process है। जिस वेबसाइट के लिए हम इसे use करते हैं उस वेबसाइट की किसी भी engine पर top ranking में आने में थोड़ा टाइम लगता है और हमें काफी धैर्य के साथ काम करना होता है।

 इसका result आने में करीब 6 महीने का वक्त लगता है फिर भी मैं आपको White Hat SEO use करने का सलाह दूंगा। क्योंकि White Hat SEO बेशक slow process है लेकिन White Hat SEO से हमें ranking me long lasting growthbb मिलती है।
यदि हम black hat seo के बारे में बात करे तो यह निम्नलिखित रूप से कार्य करता है।

Black Hat SEO

  1. Black Hat SEO is considered as unathical SEO.
  2. In Black Hat SEO, we are not follow guidelines of any search engine.
  3. Black Hat SEO provides Quick, un predictably, and Short lasting growths in ranking.
  4. If you use Black Hat SEO then search engine add you in black list.

 Black Hat SEO एकदम White Hat SEO का just ऑपोजिट है। इसे हम unethical SEO के नाम से भी जानते हैं। इसमें हम सर्च इंजन के किसी भी Guidelines को follow नहीं करते हैं पर फिर भी इसमें quick response मिलता है यानी कि आपको इसका रिजल्ट काफी जल्दी मिल जाता है। लेकिन हम आपको यह सलाह देंगे कि आप Black Hat SEO use में ना ले क्योंकि यह बहुत जल्द रिजल्ट provide तो करता है लेकिन उसका खराब effect वेबसाइट की ranking है।

 अब यहां पर एक सवाल आता है कि आखिर Black Hat SEO इतना अच्छा होने के बाद भी लोग use क्यों नही करते। तो इसका जवाब है कि search engine के सॉफ्टवेयर काफी smart चल। यदि
उन्हें यह मालूम चल गया कि वेबसाइट में Black Hat SEO यूज है तो उस वेबसाइट को ब्लैक लिस्ट में add कर देंगे और दोस्तों यदि आपकी वेबसाइट ब्लैक लिस्ट में add हो गई तो किसी भी keyword या link के through या URL के through सर्च इंजन में show नहीं होगी। इसी वजह से हमें Black Hat SEO यूज़ नहीं करना चाहिए और अब हम बात करते हैं Black Hat SEO टेक्निक के बारे में तो यह निम्लिखित रूप से कर सकते हैं।

  • Link spam 
  • Keywords stuffing
  • Cloaking
  • Hidden link
  • Hidden text

यदि हम बात करे Gray hat seo के बारे में तो यह निम्नलिखित रूप से काम करता है।

Gray hat seo को हम उदाहरण से समझ सकते हैं। मान लीजिए आप के client की requirement है कि जल्द से जल्द उसकी वेबसाइट टॉप रैंकिंग पर आ जाए targeted keywords पर तो ऐसी स्थिति में आप White hat seo तो यूज़ नहीं कर सकते क्योंकि उसका रिजल्ट आने में करीब 6 महीने तक का समय लग जाता है और अगर आप Black Hat SEO use करेंगे तो सर्च इंजन आपको पकड़ लेगा और आपके वेबसाइट को ब्लैक लिस्ट में add कर देगा।

ऐसी situation में हम क्या कर सकते हैं तो ऐसी situation में हम white और black hat SEO को use में ले सकते हैं तो चलिए आपको बताते हैं कि Gray hat seo क्या है। Gray hat seo White Hat SEO और Black Hat SEO का कांबिनेशन है जहां 95%
White hat SEO का use करते हैं और 5% black hat SEO का यूज करते हैं लेकिन ऐसी सिचुएशन में आपको black hat SEO का यूज नहीं करना चाहिए। यदि थोड़ा भी black hat SEO, GOOGLE के द्वारा पकड़ा जाता है तो आपकी वेबसाइट को काफी नुकसान होगा।

कुल मिलाकर हम आपसे बस या कहना चाहेंगे कि यदि आप इनिशियल लेवल पर काम करना चाहते हैं तो केवल white hat seo का यूज़ करें क्योंकि केवल वही आपकी वेबसाइट को grow कर सकता है इसलिए आप shortcut तरीकों से बचें एवं हमेशा safe तरीके का
चुनाव करें।  
Types of SEO ( search engine optimization ) in hindi Types of SEO ( search engine optimization ) in hindi Reviewed by Cyber Kida on Monday, February 04, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.